Counsellor Dinesh Pathak, Journalist Dinesh Pathak, Counsellor in Lucknow, Parenting Counsellor Dinesh Pathak, Child Counselor in Lucknow, Best Parenting Counselor in Lucknow, Marriage Counselor in Lucknow, Counselor In UP, Parenting Counselor in UP, Freelance journalist and Counselor Dinesh Pathak.

अगर आप बहानेबाज हैं तो मिलिए हौंसलों वाले युवा राजेश से

मुझे शहर से बाहर जाना था| टैक्सी बुलाई| राजेश यादव सारथी के रूप में मिले| जाते वक्त मैं 90 किलोमीटर की दूरी में बहुत बातचीत इसलिए नहीं कर पाया क्योंकि मेरे पास काम बहुत था लेकिन गाड़ी में बैठते ही मैंने आदतानुसार तीन सवाल पूछे| एक नाम, दूसरा टैक्सी कब से चला रहे हो और तीसरा रहने वाले कहाँ के हो? राजेश ने सभी सवालों का संक्षिप्त सा जवाब दिया और हम मंजिल की तरफ चल पड़े|दिनेश पाठकलौटते वक्त मेरी बातचीत शुरू हुई| इस नौजवान ने जो कुछ बताया, मुझे लगा कि यह बहानेबाजों के लिए प्रेरणास्रोत है| बात वर्ष 2000 की है| राजेश छठीं क्लास में था| घर में आर्थिक तंगी थी| राजेश ने बुक शॉप पर पार्ट टाइम नौकरी की| वेतन मिलते थे 400 रुपए महीना| तीन भाइयों में सबसे छोटा राजेश नौकरी इसलिए करने लगा क्योंकि पिता जी नादरगंज में एक कारखाने में काम करते हैं| घर की जरूरतें पूरी नहीं हो पाती थीं| बकौल राजेश, मेरे दोनों बड़े भाई पढ़ने में ठीक थे और मैं फिसड्डी| इसलिए जब भी जरूरत होती मैं बुक शॉप से एडवांस लेकर भाइयों की मदद करता| चूँकि, शॉप के मालिक मुझे बहुत मानते थे, इसलिए वे आसानी से पैसे दे दिया करते थे| फिर धीरे-धीरे मेरी तनख्वाह से काट लेते| समय धीरे-धीरे कब आगे बढ़ गया, पता नहीं चला| मैं जैसे-तैसे इंटर पास कर चुका था| इस दौरान जहाँ कहीं रामायण होती, राजेश पहुँच जाता| देखते ही देखते वह ढोलक मास्टर हो गया| अब उसे रामायण, जागरण आदि में ढोलक बजाने के लिए पैसे मिलने लगे| यह क्रम आज भी जारी है|बकौल राजेश, अब पढ़ने का मन बिल्कुल नहीं था| क्योंकि परिवार का खर्च बढ़ता जा रहा था| दोनों भाई पढ़ने में बहुत मेहनत करते थे और मुझे भरोसा हो चला था कि मेरे दोनों बड़े भाई कुछ न कुछ अच्छा जरुर करेंगे| हुआ भी वैसा| बड़े भाई का चयन पंजाब नेशनल बैंक में हुआ| मझले भाई ने एमसीए पूरा किया और नौकरी की तलाश में इधर-उधर भटकने लगा| दिल्ली पहुँचा| नौकरी मिली लेकिन उसका मन नहीं लगा| इस दौरान वह अपने ज्ञान के स्तर को बढाता रहा| कुछ ही साल में वह अपने परिवार का लाडला बन चुका है| राजेश की ख़ुशी और भाई के प्रति गर्व उसके चेहरे पर आ गया| बोला-सर, अब मेरा भाई चेन्नई में है| 1.80 लाख रुपया महीना उसकी सेलरी है| 1972 में पिता जी बिहार से हावड़ा के लिए निकले और लखनऊ पहुँच गए| तब से यहीं के होकर रह गए| शुरू में प्लंबर का काम किया| फिर नौकरी मिल गई| राजेश ने गर्व से बताया कि उसके पास 400 वर्ग फुट का अपना घर भी है| कुछ दिन पुरानी बात है| वाशिंग मशीन जल गई| मैंने भाई को बताया| एक हफ्ते में टीवी और वाशिंग मशीन दरवाजे पर आ गई| अब मम्मी को कोई परेशानी नहीं होती|पापा रिटायर हुए तो कंपनी के मालिकों ने उन्हें फिर से नौकरी दे दी| अब उन्हें पेंशन भी मिलती है और तनख्वाह अलग से| घर में सुख है और शान्ति भी| बुक शॉप छोड़ने के बाद मैंने विशाल मेगा मार्ट में कैशियर की नौकरी कर ली| अब मैं हेड कैशियर हूँ| लगभग 15 हजार महीना मिल जाते हैं| मैं बहुत खुश हूँ कि दोनों बड़े भाइयों की मदद कर पाया| इन दिनों चेन्नई वाले भाई के लिए दुल्हन तलाशने का काम चल रहा है लेकिन कोई उचित मिल नहीं रही| यह बताते हुए भी राजेश भावुक हुआ| हम वापस घर के करीब थे| बोला-सर, मैंने आपसे झूठ बोला था| असल में ये टैक्सी मेरे दोस्त की है| मैं पहली दफा शहर से बाहर कोई भी कार लेकर निकला हूँ| मुझे सीखते हुए दो महीने हो गए| स्टोर से निकलता हूँ तो रात में दोस्त के साथ कार सीखता हूँ| मैं आपसे झूठ बोलकर सहज नहीं रह पाता| हम घर पहुँच गए थे| उसकी आँखों में ईमानदारी की झलक थी| चमक थी| सही कहूँ तो मैं भी इस नौजवान से मिलकर प्रेरित हूँ| उसे जीवन से कोई शिकायत नहीं| पढ़ पाने का गम भी नहीं| मम्मी-पापा के इस लाडले का एक ही सपना है-ईमानदार जीवन| 31 वर्ष की उम्र में इस नौजवान का कहना है कि अब कुछ ऐसा बिजनेस करने का इरादा है, जो सिर्फ और सिर्फ मेरा हो| मेरे परिवार का हो| पापा, दोनों भाई भी ऐसा ही चाहते हैं| सबका कहना है कि अब तुम्हारी बारी है| राजेश ने सवाल किया-सर, ऐसा भाग्यशाली परिवार भला मिलता है किसी को? खुद ही जवाब दिया-शायद नहीं या बिरलों को|